फर्रूखाबाद। बंद मकान में मां बेटी की लाश मिलने से क्षेत्र में सनसनी फैल गई। मामले की जानकारी होने पर पुलिस कप्तान सहित पुलिस फोर्स मौके पर पहुंच गया। पुलिस ने जब मामले की पडताल की तो शव के चेहरे पर चोट के निशान मिले। एसपी ने फिंगर प्रिंट टीम को बुलाकर साक्ष्य एकत्र कराये। दोनों शवों की मौत कई दिन पूर्व होने की बात सामने आ रही है। पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।
विवरण के अनुसार शहर कोतवाली क्षेत्र के अन्तर्गत गंगा नगर कबाडे  बाली गली निवासी वृ(ा राधा देवी पत्नी स्व0 द्वारिका प्रसाद  जाटव व उसकी बेटी लक्ष्मी देवी के शव उनके ही घर में मिले। बताया गया कि राधा देवी का बेटा लालू उर्फ विमल प्रताप  का काम बंद हो जाने की बजह से अपनी पत्नी प्रीती व बच्चों को लेकर आठ जुलाई को अपनी ससुराल कायमगंज के मोहल्ला गउटोला में चला गया था। उसके घर पर उसकी मां व बहन अकेली थी। उसक बाद 13 जुलाई को लालू अपने घर आया था। बताया कि उस समय उसकी मां व बहन पूरी तरह से ठीक थी। फिर वह अपनी ससुराल चला गया। आज जब मकान के अन्दर से बदबू आई तो आस पास के लोगों ने सूचना पुलिस को दी। मौके पर शहर कोतवाल वेद प्रकाश पाण्डेय सहित पुलिस फोर्स पहुंच गया। वहीं जानकारी होने पर पुलिस कप्तान डा0 अनिल मिश्र भी मौके पर पहुुंच गये। एसपी ने मामले की पडताल करने के बाद मृतक के बेटे पर शहर कोतवाल को नजर रखने की बात कही। शवों को देखने पर लगा कि  चेहरे पर चोट के निशान है। शवों के पास खून भी पडा था। पहले तो बताया गया कि कमरा अन्दर से बंद था। लेकिन जब शहर कोतवाल ने घर के अन्दर जाकर देखा तो कमरे में जाने का रास्ता सामने आया। जिस पर पुलिस का शक और भी गहरा हो गया। एसपी श्री मिश्र ने बताया कि फिंगर प्रिंट टीम को मौके पर बुला लिया गया है। जांच की जा रही है। उचित कार्यवाही की जायेगी। यदि कोई  दोषी पाया जाता है तो  उसे जेल की सलाखों के पीछे भेजा जायेगा।

फर्रुखाबाद संवाददाता सुभाष चन्द्र पाल