थामे नहीं थम राह दूध पर अवैध वसूली का धंधा,जमकर लूट रहे हैं दूकानदार

नगर व आस-पास के ग्रामीण क्षेत्रों में दूध पैकेट की बिक्री पर उपभोक्ताओं पर अतिरिक्त अवैध वसूली पर रोक नहीं लग पा रही है।
न्गर व आस-पास के ग्रामीण क्षेत्रों में सफेद दूध का काला कारोबार जोरों पर चल रहा है। दूध कम्पनी द्वारा मापदंडों के विपरीत जाकर दूकानदार उपभोक्ताओं को जमकर लूट रहे हैं। किसान नेता मुन्नालाल सक्सेना,मयंक अग्निहोत्री,शिवमंगल कौशल राहुल गुप्ता,वाजिद अली उर्फ राका मंसूरी,राहुल गुप्ता, शिवमंगल कौशल ,अमर गुप्ता आदि ने बताया कि क्षेत्र में बेचे जा रहे विभिन्न ब्रान्डों के दूध के पैकेट निर्धारित छपी कीमतों से अधिक वसूली दूकानदार कर रहे हैं। लम्बे समय से चल रहे इस गोरखधंधे जिम्मेदार विभागों द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। जिससे उपभोक्ता लुटने को मजबूर है। प्रतिदिन उपयोग में आने वाला सबसे महत्वपूर्ण दूध की जरूरत पूरी करने के नाम पर दुकानदारों द्वारा ठगी की जा रही है। दुकानदारों द्वारा दूध के पैकेटों पर कम्पनियों द्वारा मुद्रित की गई दर से दो रूपए से पांच रूपए अधिक वसूली की जा रही है। इसके अलावा दूकानदारों द्वारा उपभोक्ताओं को एक्सपायरी डेट का दूध भी सप्लाई किया जाता हैं जिससे स्वास्थय का खिलवाड़ हो रहा है। दूकानदारों के प्रभावी होने एवं विभागीय संरक्षण के चलते इनके द्वारा बेखौफ ढंग से उपभोक्ताओं को लूटा जा रहा है।