उत्तर प्रदेश में महिला अपराधों के प्रति कड़ा रुख अपनाते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्त निर्देश दिया है। सीएम योगी ने नाराजगी जताते हुए कहा है कि दुराचारियों और छेड़खानी करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए। उन्होंने महिलाओं, बच्चियों से छेड़खानी, दुर्व्यहार, अपराध और यौन अपराध में लिप्त अपराधियों के पोस्टर शहर के सार्वजनिक स्थानों पर लगाने का आदेश दिया है, ताकि ऐसे लोगों को समाज के सामने लाकर शर्मिंदा किया जा सके। उन्होंने सख्ती से कहा कि कहीं भी महिलाओं के साथ कोई आपराधिक घटना हुई तो संबंधित बीट इंचार्ज, चौकी इंचार्ज, थाना प्रभारी और सीओ जिम्मेदार होंगे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के बाद अब नागरिक संशोधन कानून के विरोध में प्रदर्शन के दौरान हिंसा करने वाले उपद्रवियों के पोस्टर की तरह ही मनचलों, शोहदों और दुराचारियों के पोस्टर पूरे शहर में लगेंगे। उत्तर प्रदेश में मिशन दुराचारी के तहत होने वाले इस कार्रवाई की जिम्मेदारी महिला पुलिसकर्मियों को दी गई है। ये महिला पुलिसकर्मी ऐसे शोहदों और मनचलों की पहचान कर उनके पोस्टर को शहर के चौराहों और सार्वजनकि स्थलों पर लगवाएंगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आदेश दिया है कि महिलाओं से किसी भी तरह का अपराध करने वाले अपराधियों को बख्शा नहीं जाएगा। दुराचारियों और छेड़खानी करने वालों के खिलाफ महिला पुलिसकर्मियों से ही सख्त कार्रवाई कराई जाएगी। ऐसे अपराधियों और दुराचारियों के मददगारों के भी नाम उजागर किए जाएंगे। जिस तरह एंटी रोमियो स्क्वायड ने मनचलों और महिलाओं के साथ अपराध करने वालों की कमर तोड़ी, वैसे ही राज्य के हर जिले की पुलिस अभियान चलाती रहे। कहीं भी महिलाओं के साथ कोई आपराधिक घटना हुई तो संबंधित बीट इंचार्ज, चौकी इंचार्ज, थाना प्रभारी और सीओ जिम्मेदार होंगे।