शमसाबाद फर्रुखाबाद

पुलिस तथा वन विभाग के अधिकारियों तथा कर्मचारियों की लापरवाही लकड़ी माफिया हुए बे खौफ उजाड़ रहे धरती का आभूषण उधर मुखबिर की सूचना पर वन विभाग के अधिकारियों ने मौके पर पेड़ काट रहे ठेकेदार तथा पेड़ स्वामी को पकड़ा जिला बन अधिकारी के आदेश पर आवश्यक कार्रवाई के तहत मुकदमा दर्ज जानकारी के अनुसार इसे पुलिस विभाग की लापरवाही कहें या फिर वन विभाग के अधिकारियों की अनदेखी शायद यही कारण है लकड़ी माफियाओं के हौसले बुलंद है जो कहीं ना कहीं हर रोज हरे-भरे वृक्षों का सौदा कर जहां एक ओर जंगल के जंगल उजाड़ रहे हैं वहीं दूसरी ओर धरती मां के आभूषणों को उजाड़ कर धरती मां के साथ साथ धरती मां की गोद में खेल रहे लाखों लोगों के जीवन से खिलवाड़ कर रहे हैं इस बात का उदाहरण विकास शमसाबाद क्षेत्र के ग्राम परम नगर गंग लउ में देखने को मिल ही गया जहां एक लकड़ी माफिया एक व्यक्ति के हाथों एक नही दो नही आधा दर्जन से भी अधिक वृक्षों का सौदा कर मजदूरों द्वारा कुल्हादे बजबा रहा था उधर एक जनप्रति निधि के कार्य से जुड़े एक व्यक्ति ने जब धरती मां के आभूषणों को एक लकड़ी माफिया के द्वारा उजाड़ते हुए हुए देखा तो उसको पीड़ा हुई और उसने वन विभाग के अधिकारियों को मामले की सूचना दी बताते हैं जिला वन अधिकारी फर्रुखाबाद को मामले की सूचना दी गई जिस पर जिला बन अफहिकारी ने गम्भीरता अपनाते कायमगंज के विभागीय अधिकारियों को सूचना दी जिस पर वन विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंचे और मामले की जांच पड़ताल की इस बताया गया है ठेकेदार द्वारा पांच नीम के हरे पेड़ तथा दो जामुन के पेड़ की खरीदारी किए जाने के बाद आरे चलवा कर कटवा रहा था इस मामले में गृह स्वामी द्वारा लकड़ी ठेकेदार से हजारो का सौदा किया गया था सौदे के बाद ठेकेदार मजदूरों से पेड़ कटबा रहा था पकड़े जाने के बाद ठेकेदार तथा पेड़ स्वामी वन विभाग के अधिकारियों से मन्नते करता हुआ नजर आया लेकिन अपराध तो अपराध है इसी के तहत जांचपड़ताल की ओर आवश्यक कार्रवाई की गई उधर बन विभाग के अधिकारियों से मामले की जानकारी की गई जिसमें जिला वन अधिकारी फर्रुखाबाद से संपर्क किया गया मगर अपराह्न कारणों से संपर्क नही हुआ वही पुनः संपर्क किए जाने पर विभाग के महेश सिंह ने बताया जिला बन अधिकारी फर्रूखाबाद के आदेशानुसार लकड़ी ठेकेदार भूरा निवासी शमसाबाद तथा पेड़ स्वामी मुकेश कुमार पुत्र अखिलेश कुमार निवासी परम नगर गंग लऊ के ख़िलाफ़ मुकदमा दर्ज कर विभागीय स्तर पर जांच शुरू कर दी गयी है उन्होंने यह भी बताया मुकदमा दर्ज होने के बाद जुर्माने की कार्यबाही हेतु विभागीय स्तर पर जाँच रिपोर्ट औऱ कार्यबाही की रिपोर्ट भेजी जाएगी