इसे सत्ता की हनक कहें या कुछ और यह बात अलग है। किन्त्ुा बड़े शर्म की बात है कि परिवहन विभाग का कार्य भाजपा के जिम्मेदार पदाधिकारियों द्वारा किया जाना वास्तव में शर्म की बात है।
गत सप्ताह कायमगंज में यातायात कर अधिकारी बी0के0 द्वारा नगर के लगभग 18 कई ई-रिक्शा को बिना नम्बर होने के कारण सीज कर दिया गया था। जिससे ई-रिक्शा वालों में हड़कम्प मच गया था। ई-रिक्शा वालों ने मदद के लिए सपा नेता वाजिद अली उर्फ राका मंसूरी से बात की तो उन्होंने ई-रिक्शा,चालक,भूमिहीन मजदूर यूनियन उत्तर प्रदेश का गठन कर एसडीएम कायमगंज,क्षेत्रीय विधायक अमर सिंह खटिक के आवास पर ज्ञापन सौंप ई-रिक्शा वालों को निजात की मांग की हैं। वहीं दूसरे ओर भाजपा की नगर इकाई के कुछ पदाधिकारियों ने ई-रिक्शा यूनियन के लिए भाजपा का कार्यकर्ताओं को पदाधिकारी नियुक्ति किया। जिसका अध्यक्ष नगर महामंत्री वरूण गंगवार को बनाया गया। फिलहाल भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा नगर के ई-रिक्शा पर पीले रंग पर काले नम्बरों में नम्बर डाले जा रहे हैं। जबकि यह नम्बर केवल परिवहन विभाग द्वारा ही जारी किया जा सकता है। लेकिन भाजपा के नगर महामंत्री व उनकी कमेटी द्वारा यह नम्बर डाला जाना वास्तव में ही सत्ता पर प्रश्न चिन्ह लगा रहा है।

क्या बोले विपक्ष के नेता
कांग्रेस जिलाध्यक्ष विजय कटियार ने कहा कि निन्दा का कार्य है। कि परिवहन अधिकारियोें का कार्य भाजपा के पदाधिकारी कर रहे हैं?
जिलामहासचिव मंदीप यादव ने कहा कि भाजपा कार्यकर्ता बेलगाम हो चुके हैं।यह उसी का जीता जागता उदाहरण है। अन्य कार्यदायी विभागों की तरह एआरटीओ कार्यालय भी बेलगामी की भेंट चढ़ गया है।
भाजपा जिलाध्यक्ष रूपेश गुप्ता से जब बात की तो उन्होंने कहा कि मामला मेरे संज्ञान में नहीं है।
ई-रिक्शा,चालक,भूमिहीन मजदूर यूनियन उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष वाजिद अली राका मंसूरी ने कहा कि ई-रिक्शा पर नम्बर डलवाना बड़ी निन्दा की बात है। ई-रिक्शा वालों का नगरपालिका में नम्बर अंकित है। जिनके चेचिस नम्बर नहीं है उनकी मांग,मुख्यमंत्री जिलाधिकारी के समक्ष भेजी गई है उनका भी सरलीकरण कर परिवहन विभाग द्वारा नम्बर दिलाया जाए। जिससे उनके परिवार के भरण-पोषण में विभाग बाधा न बने।

क्या बोले जिम्मेदार
उपजिलाधिकारी सुनील कुमार यादव से जब बात की तो उन्होंने कहा कि वह यूनियन के नम्बर हो या किसी के उनसे हमें कोई लेना देना नहीं यदि परिवहन विभाग के द्वारा जारी किया गया नम्बर नहीं होगा तो कार्रवाई निश्चित की जाएगी।